गूगल ने ढाई साल में ही बंद किया अलो ऐप, ऑरकुट और गूगल प्लस के बाद बंद होने वाली तीसरी बड़ी सर्विस


गैजेट डेस्क. सितंबर 2016 में लॉन्च हुई गूगल के इंस्टैंट मैसेजिंग ‘अलो’ 30 महीनों के अंदर ही बंद हो गई। कंपनी ने 12 मार्च को इसे पूरी तरह से अलविदा कह दिया। चैटिंग बेहतर बनाने के लिए बनाई गई अलो ऐप में गूगल असिस्टेंट और सेल्फी स्टीकर्स, स्मार्ट रिप्लाई और डेस्कटॉप सपोर्ट जैसे फीचर मौजूद थे, लेकिन उम्मीद के मुताबिक यूजर्स न मिलने के कारण कंपनी ने इसे बंद करने का फैसला लिया। कंपनी ने काफी पहले ही इसमें निवेश करना बंद कर दिया था। कंपनी का कहना था कि अब सिर्फ एंड्रॉयड मैसेजिंग ऐप को बेहतर बनाने के लिए काम किया जाएगा।

  1. गूगल ने अपने ब्लॉग में बताया था कि ‘हर एंड्रॉयड यूजर्स को मैसेजिंग का अच्छा एक्सपीरियंस मिले, इसके लिए हम डिफॉल्ट मैसेजिंग ऐप पर काम कर रहे हैं। हम एसएमएस को अपग्रेड करने के लिए मोबाइल इंडस्ट्री के साथ मिलकर काम कर रहे हैं ताकि यूजर्स अपने एंड्रॉयड डिवाइस पर ग्रुप चैट करने के अलावा फोटो शेयर कर सकें।’

  2. गूगल ने पहले ही बता दिया था कि मार्च 2019 तक अलो ऐप काम करेगी लेकिन इसके बाद इसे पूरी तरह से बंद कर दिया जाएगा।’ गूगल ने सभी ऐलो यूजर्स को सलाह दी थी कि ऐप बंद होने से पहले अपनी चैट हिस्ट्री को एक्सपोर्ट कर लें।

  3. गूगल के ब्लॉग पोस्ट के मुताबिक, हर महीने दुनियाभर में 17.50 करोड़ यूजर्स एंड्रॉयड मैसेजिंग सर्विस का इस्तेमाल करते हैं और इसीलिए कंपनी ने 40 नेटवर्क कैरियर और मोबाइल कंपनियों के साथ मिलकर मैसेजिंग सर्विस को अपग्रेड करने पर काम कर रही है।

  4. दरअसल, गूगल की अलो ऐप ने उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं किया, इसलिए कंपनी ने इसे बंद करने का फैसला लिया है। कंपनी का कहना है कि एंड्रॉयड मैसेज प्लेटफॉर्म को अपग्रेड करने के लिए लगातार नए फीचर्स जोड़े जाएंगे।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      Google said goodbye to instant messaging app Allo on 12 march